World Labour day 2022 के मौके पर सात समंदर पार तक पहुंची छत्तीसगढ़िया बोरे बासी मुहिम, विदेश में प्रवासी भारतीयों ने भी लिया पारंपरिक भोजन का आनंद

World Labour day 2022 के मौके पर सात समंदर पार तक पहुंची छत्तीसगढ़िया बोरे बासी मुहिम, विदेश में प्रवासी भारतीयों ने भी लिया पारंपरिक भोजन का आनंद

World labour day 2022: नाचा का छत्तीसगढ़ एनआरआई एसोसिएशन कई देशों (यूएसए, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप, सिंगापुर और यूके) में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर छत्तीसगढ़ विरासत और संस्कृति को बढ़ावा देता है।

एसोसिएशन #NACHA की कार्यकारी नेतृत्व टीम शशि साहू, दीपाली सरावगी, मीनल मिश्रा, मोनिका तिवारी, गणेश कर, शत्रुघ्न बरेठ, तिजेंद्र साहू, दिलीप तिवारी, वंदना दडसेना, निर्मल साहू, कृष्णा मिश्रा ने अमेरिका और अन्य देशों में बोरे बासी खाकर मजदूर दिवस के अवसर पर देसी पारंपरिक भोजन का आनंद लिया और देश और दुनिया की तरक्की में मजदूरों की भूमिका को नमन किया।

अमेरिका में पैदा हुए छत्तीसगढ़ के एनआरआई बच्चों ने भी भाग लिया और मजदूर दिवस पर बोरे बासी खाने की मुहिम का हिस्सा बनकर गर्व महसूस किया, और छत्तीसगढ़ी आहार और संस्कृति को सीखा।

इस मौके पर प्रवासी भारतीयों ने कहा कि हमारी संस्कृति से जुड़े पारंपरिक भोजन का स्वाद घर और बचपन की याद दिलाता है। बच्चों को भी भोजन इस खास रेसिपी से हमने परिचित कराया और उन्हें भी इसका स्वाद बहुत ही अच्छा लगा है। छत्तीसगढ़ सरकार की यह मुहिम हमें अपनी संस्कृति से जुड़ने का मौका देती है।

बोरे बासी गर्मी में खाया जाने वाला भोजन है। आमतौर पर दोपहर के वक्त इसे खाया जाता है और यह गर्मी में लू से बचाव करता है। छत्तीसगढ़ के कर्मवीर मजदूर बोरे बासी खाकर दिनभर जी तोड़ मेहनत करते हैं। बोरे बासी में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं।

अंतरराष्ट्रीय छत्तीसगढ़