Raipur: वैक्सीन सर्वे का बहाना बनाकर घर में घुसे और दी थी लूट की घटना को अंजाम, महिला- पुरुष गिरफ्तार

Raipur: वैक्सीन सर्वे का बहाना बनाकर घर में घुसे और दी थी लूट की घटना को अंजाम, महिला- पुरुष गिरफ्तार

रायपुर। Raipur: राजधानी रायपुर के रिहायशी इलाके में कोरोना वैक्सीन सर्वेयर बनकर आए एक महिला और पुरुष ने एक घर में घुसकर चाकू की नोक पर लूट की घटना को अंजाम दिया वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपी वहां से मौका पाकर फरार हो गए थे लेकिन पुलिस टीम ने उन्हें निशानदेही पर गिरफ्तार कर लिया है ।

प्रार्थिया धरम शीला ने थाना डी.डी.नगर में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह सलासार ग्रीन्स फ्लैट एफ 605 डी डी नगर रायपुर में अपने परिवार के साथ रहती है तथा गृहणी है। 2 जुलाई की शाम करीब 4:45 बजे प्रार्थिया अपने पुत्र तनिष्क उम्र 16 वर्ष के साथ अपने घर पर थी एवं प्रार्थिया के पति संजीव कुमार ड्युटी पर गये थे। उसी समय प्रार्थिया के घर का बेल बजने से वह दरवाजा खोली तो दरवाजा के सामने एक लड़का जिसकी उम्र करीबन 30-35 वर्ष का जो काला कोट, काला हेलमेट पहना था और उसके साथ एक महिला जिसकी उम्र करीबन 30 वर्ष जो सन्तरे कलर की छिटदार कुर्ता हरे रंग का सलवार एवं ब्लु कलर चुन्नी एवं काले रंग का हेलमेट पहनी थी दोनों के द्धारा वैक्सीन का डोज लगवाने के संबंध मे पुछताछ किया गया। जिस प प्रार्थिया हम लोग वैक्सीन लगवा चुके है बोलने पर उसके पति के बारे मे पुछे तो वह बताई की वे भी दोनो डोज लगवा चुके है। तब उनके द्धारा पीने के लिये पानी मांगे तब प्रार्थिया पानी लाकर दी और उनसे आई डी मांगी तब उनके द्वारा प्रार्थिया को धक्का देकर नीचे गिरा दिया गया। इसी दौरान प्रार्थिया का लड़का तनिष्क बीच बचाव करने आया तो महिला अपने पास रखें चाकु को प्रार्थिया के लड़के के गर्दन मंे टिका दी और प्रार्थिया को बोली हल्ला करोगे तो तुम्हारे लडके को मार देगे तथा पुरूष द्वारा अपने पास रखें कुछ स्प्रे को निकालकर प्रार्थिया के मुंह में छिड़का और मुंह को रूमाल से दबा दिया तो प्रार्थिया डर मे बेहोश होने का बहाना की तो उसे जमीन में लिटा दिये और प्रार्थिया के लडके को बाथरूम मंे बंद कर दिये और प्रार्थिया के हाथ पैर को अपने पास रखें नायलोन की रस्सी से बांध कर घसीटते हुये कमरे में ले गये उससे पहले लडकी अन्दर के रूम में जाकर अलमारी खोलकर सामान निकालने लगी और साथ में आये पुरूष के साथ प्रार्थिया झुमा झपकी होने लगी था इस दौरान उसके पहने हैलमेट को निकाल कर प्रार्थिया उसके मुंह मे मुक्का मारी जिससे उसके पहने हुये चश्मे का दोनों ग्लास निकलकर गिर गया। दोनो अलमारी और रूम से सामान लूट करने लगे तब प्रार्थिया चिल्लाई तो दोनों घर के दरवाजे को बाहर से बंद कर भाग गये। आवाज सुनकर कालोनी के लोग आकर दरवाजा खोले और प्रार्थिया के लडके को बाथरूम से निकाले और प्रार्थिया के हाथ एवं पैर में बंधे रस्सी को खोले। प्रार्थिया अपने अलमारी को चेक की तो उसमें रखंे सोने चांदी के जेवरात, 01 नग मोबाईल फोन तथा 01 नग आई पेड लूट कर भाग गये। जिस पर अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध थाना डी डी नगर में अपराध क्रमांक 229/21 धारा 342, 394 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया।
घर के अंदर प्रवेश कर लूट की घटना को पुलिस उपमहानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अजय यादव द्वारा गंभीरता से लेते हुये अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर लखन पटले, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (अपराध) अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक पुरानी बस्ती मनोज ध्रुव, थाना प्रभारी डी.डी.नगर योगिता खापर्डे एवं प्रभारी सायबर सेल को अज्ञात आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार करने हेतु आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में सायबर सेल एवं थाना डी.डी.नगर की संयुक्त टीम का गठन कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी प्रारंभ की गई। टीम के सदस्यों द्वारा घटना व आरोपियों के संबंध में प्रार्थिया एवं उसके पुत्र से विस्तृत पूछताछ करने के साथ ही पड़ोसियों व अपार्टमेंट के गार्ड से भी अज्ञात आरोपियों व उनके हुलियों तथा उनके द्वारा उपयोग किये दोपहिया वाहन के संबंध में विस्तृत पूछताछ किया गया। टीम के सदस्यों द्वारा घटना स्थल में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजों का अवलोकन प्रारंभ किया गया। घटना स्थल से लेकर आरोपियों द्वारा भागने हेतु जिन मार्गो का उपयोग किया था उन मार्गों में लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजों का टीम के सदस्यों द्वारा लगातार अवलोकन करते हुये सैकड़ो सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजों को खंगाला गया। फुटेजों के अवलोकन पर यह भी पाया गया लूट की घटना में अज्ञात आरोपियों द्वारा जिस दोपहिया एक्टिवा वाहन का उपयोग किया गया उस वाहन में आरोपियों द्वारा कागज में फर्जी नंबर लिखकर वाहन के नंबर प्लेट में चिपकाया गया था एवं एक्टिवा वाहन के सामने कागज में कोविड रिलिभ डाॅ. शर्मा लिखकर चिपकाये थे। घटना कारित करने के बाद आरोपियों द्वारा डी डी नगर क्षेत्र में ही एक स्थान पर अपने कपड़े बदले एवं वाहन के नंबर प्लेट में चिपकाये फर्जी नंबर को उखाड़ कर फेंक दिये थे। कागज में लिखें उस फर्जी नंबर को टीम के सदस्यों द्वारा उक्त स्थान से बरामद किया गया। टीम के सदस्यों द्वारा फुटेजों का अवलोकन करते अंततः एक्टिवा वाहन को चिन्हांकित करने में सफलता मिलीं तथा एक्टिवा वाहन के स्वामी को पकड़कर घटना के संबंध में पूछताछ करने पर उसके द्वारा बताया गया कि वह किराये पर लोगों को दोपहिया वाहन देता है। जिस पर उक्त वाहन को कौन किराये पर लेकर गया था के संबंध में जानकारी ली गई, जिस पर अज्ञात आरोपियों के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई एवं अज्ञात आरोपियों को चिन्हांकित करने में सफलता प्राप्त हुई। जिस पर आरोपियों के संबंध में तकनीकी विश्लेषण किया गया, विश्लेषण के दौरान एक आरोपी की उपस्थिति महाराष्ट्र के रत्नागिरी में होना पाया गया। जिस पर प्रभारी सायबर सेल श्री वीरेन्द्र चन्द्रा के नेतृत्व में 04 सदस्यीय टीम (महिला कर्म. सहित) को रत्नागिरी रवाना किया गया। टीम के सदस्यों द्वारा रत्नागिरी पहुंचकर महिला आरोपी को लोकेट किया गया एवं महिला आरोपी आयशा अघाड़ी को गिरफ्तार किया गया। कड़ाई से पूछताछ में महिला आरोपी आयशा द्वारा अपने मंगेतर ईरशाद के साथ मिलकर लूट की उक्त घटना को कारित करना स्वीकार किया गया। महिला आरोपी आयशा ने बताया कि वह मूलतः रत्नागिरी महाराष्ट्र की रहने वाली है तथा वह सी.ए. है एवं उसकी सगाई ईरशाद के साथ हो गई है। आयशा एवं ईरशाद आॅन लाईन शेयर बाजार टेड्रिंग में इनवेस्ट करते है। इसी दौरान आयशा का संपर्क प्रार्थिया के पति संजीव कुमार के साथ हुई थी तथा दोनों का आॅन लाईन शेयर बाजार टेड्रिंग में लेन- देन होता रहता था तथा आयशा, संजीव कुमार के निवास स्थान का भी पता जानती थी। इसी बीच संजीव कुमार द्वारा अधिक रकम देने का प्रलोभन देकर आयशा से रकम आॅन लाईन शेयर बाजार टेड्रिंग में इनवेस्ट कराया गया था जिसमें संजीव कुमार को नुकसान हो गया। आयशा द्वारा अपना रकम संजीव कुमार से वापस मांगने पर संजीव कुमार रकम वापस देने में टाल मटोल करने लगा तथा रकम वापस नहीं दिया। जिस पर आयशा ने अपने मंगेतर ईरशाद के साथ मिलकर संजीव कुमार के निवास रायपुर में लूट करने की योजना बनायी। योजना के अनुसार दोनों आरोपी 1 जुलाई को रायपुर आये एवं पंडरी स्थित एक लाॅज में कमरा लेकर रूके तथा थाना तेलीबांधा क्षेत्र से किराये में एक एक्टिवा वाहन लिये तथा दिनांक 01.07.21 को ही आरोपियान संजीव कुमार के निवासी सलासार ग्रीन सिटी में जाकर रेकी किये एवं संजीव कुमार के घर को चिन्हको योजना के अनुसार लूट की घटना को अंजाम दिये एवं फरार हो गये। महिला आरोपी आयशा को ट्रांजिट रिमाण्ड पर रायपुर लाया गया। घटना में संलिप्त आरोपी ईरशाद को भी पकड़ा गया। आरोपियों की निशानदेही पर उनके कब्जे से लूट की सोने चांदी के जेवरात, मोबाईल फोन, आई पेड जुमला कीमती करीबन 1,00,000/- रूपये एवं घटना में प्रयुक्त एक्टिवा वाहन एवं हेलमेट को जप्त किया गया है। आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध अग्रिम कार्यवाही किया गया।

छत्तीसगढ़ नारायणपुर रायपुर