अपशिष्ट जल के प्रबंधन का बेहतरीन उदाहरण पेश कर रहा तमिलनाडु का पप्पनकुझी गांव

अपशिष्ट जल के प्रबंधन का बेहतरीन उदाहरण पेश कर रहा तमिलनाडु का पप्पनकुझी गांव

रसोईघरों और स्नानघरों से निकलने वाला अपशिष्ट जल जो या तो ओवरफ्लो होता है या फिर किसी जगह ठहर जाता है, पर्यावरण के साथ-साथ सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए भी खतरा बनता है। तमिलनाडु में कांचीपुरम जिले के श्रीपेरुंबुदूर ब्लॉक में पप्पनकुझी ग्राम पंचायत ने अपशिष्ट जल की इस समस्या से निपटने के लिए व्यक्तिगत और सामुदायिक सोक पिट्स यानी पानी सोखने वाले गड्ढों का निर्माण किया है।

पप्पनकुझी ग्राम पंचायत में 254 घरों में 1016 लोगों की आबादी थी। इसमें लगभग 900 मीटर की 13 सड़कें थीं और दो ओवरहेड टैंक थे, जिनमें से प्रत्येक में 30,000 लीटर की क्षमता थी।

पहले, किसी भी व्यावहारिक शोधन प्रक्रिया के अभाव में, ग्रामीण घरों से निकलने वाले पानी को खुले नाले, गलियों, खाली भूमि या जल निकायों में छोड़ा जाता था, जिसके परिणामस्वरूप सतही जल संदूषण, भूमि संदूषण और गंभीर जल जनित रोग फैलते थे।

जिला प्रशासन के सहयोग से 254 में से 93 घरों को मनरेगा के तहत व्यक्तिगत सोक पिट्स तैयार किए गए और 161 घरों को मनरेगा के तहत निर्मित जल निकासी प्रणाली से जोड़ा गया।

सोक पिट, जिसे लीच पिट के रूप में भी जाना जाता है, एक ढका हुआ, झरझरा-दीवार वाला चैंबर है जो पानी को धीरे-धीरे जमीन में सोखने देता है और भूजल स्तर को बनाये रखने में मदद करता है।

इसके अलावा, डिस्पोजल पॉइंट पर 18 और 16 घन मीटर के साथ दो क्षैतिज सोक पिट्स का निर्माण किया गया था और फ़िल्टर किए गए पानी को पेरिया एरी और राजनथंगल एरी के जल निकायों में छोड़ दिया गया।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002Q7WE.jpg

जल निकासी प्रणालियों के डिस्पोजल पॉइंट पर निर्मित, क्षैतिज सोक पिट्स उच्च भूजल स्तर वाले समूहों के लिए उपयुक्त हैं। इसके बाद शोधित अपशिष्ट जल का उपयोग कृषि कार्यों के लिए किया जा सकता है। इन पहलों ने पंचायत को ओडीएफ प्लस के रास्ते पर लाकर पंचायत की स्वच्छता में बहुत योगदान दिया है।

प्रकृति राष्ट्रीय