Pak PM’s message to his nation: अमरीका रच रहा पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन की साजिश, हॉर्स ट्रेडिंग के लिए बहाए पैसे, राष्ट्र के नाम संदेश में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कही कई बातें

Pak PM’s message to his nation: अमरीका रच रहा पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन की साजिश, हॉर्स ट्रेडिंग के लिए बहाए पैसे, राष्ट्र के नाम संदेश में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कही कई बातें

इस्लामाबाद। Pak PM’s message to his nation: पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन की लहर तेज हो गई है। नेशनल असेंबली में इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया जा चुका है और 3 अप्रैल को इस पर मतदान होना है, लेकिन इसके पहले ही पाकिस्तान में यह साफ हो चुका है कि इमरान खान की सरकार अल्पमत में आ चुकी है और उन्हें किसी भी हाल में इस्तीफा देना ही होगा। इधर इमरान खान अपनी सरकार को बचाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं। वे वस्तु स्थिति को देखते हुए अपने पद से इस्तीफा देने के लिए कतई तैयार नहीं है और उनके सहयोगी और खुद वह बार-बार एक बात कह रहे हैं कि वह खिलाड़ी हैं और अंतिम गेंद तक खेलेंगे। इन सब स्थितियों के बीच इमरान खान ने गुरुवार की शाम अपने देश की जनता को संबोधित करते हुए उन परिस्थितियों से रूबरू कराया जिनके चलते पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन हो रहा है।

इमरान खान ने कहा कि जो भी देश में राजनीतिक तौर पर हो रहा है उस बारे में जनता को पूरी जानकारी होनी चाहिए और इसी मकसद से वे राष्ट्र के नाम संबोधन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक विदेशी मुल्क चाहता है कि उन्हें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद से हटा दिया जाए। इसके लिए वह विपक्षियों की आर्थिक मदद कर रहा है। जिन भी सांसदों ने उनकी सरकार से समर्थन वापस लिया है या इस्तीफा दिया है उनमें से ज्यादातर हॉर्स ट्रेडिंग के शिकार हुए हैं। एक एक सांसद को 25- 25 करोड़ रुपए देकर खरीदा गया है।

प्रधानमंत्री इमरान खान ने विदेशी साजिश के अपने दावों को दोहराया है और कहा है कि एक विदेशी राष्ट्र उनकी स्वतंत्र विदेश नीति के विकल्पों पर उन्हें हटाने की कोशिश कर रहा है। अविश्वास प्रस्ताव से पहले पाकिस्तान की जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने दावा किया कि एक विदेशी राष्ट्र ने एक संदेश भेजा कि इमरान खान को हटाने की जरूरत है अन्‍यथा देश को परिणाम भुगतने होंगे।


इमरान खान ने फिसलती जुबान में अमरीका का नाम लिया और फिर कहा कि एक विदेशी देश ने धमकी भरा संदेश भेजा था जो पाकिस्तान राष्ट्र के खिलाफ था। इमरान खान ने दावा किया कि विदेश मंत्रालय को धमकी भरा पत्र भेजा गया था। पाकिस्तान मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि यह पत्र पाकिस्तान और अन्‍य देशों के राजनयिकों के बीच बातचीत का शब्द-दर-शब्द प्रतिलेख है।

इस बीच, प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के लिए कल बुलाई गई पाकिस्तान संसद के निचले सदन-नेशनल असेंबली की कार्यवाही 3 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दी गई। अविश्वास प्रस्ताव के लिए महत्वपूर्ण सत्र बहुत देरी के बाद शुरू हुआ लेकिन संसद सदस्यों द्वारा अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान की मांग करने के बाद इसे रविवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया।


एक संबंधित घटनाक्रम में सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ-पीटीआई को तब एक और बड़ा झटका लगा है जब उसके प्रमुख सहयोगियों में से एक मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान -एमक्यूएम-पी सत्तारूढ़ गठबंधन छोड़ विपक्ष के साथ मिल गया। इमरान खान की स्थिति अनिश्चित है क्योंकि चार सहयोगियों में से तीन- एमक्यूएम-पी, पीएमएलक्यू और बीएपी ने विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव का  समर्थन किया है और तदनुसार मतदान करने की बात कही है।


पाकिस्तानी नेशनल असेंबली में कुल 342 सदस्य हैं जिसमें बहुमत का आंकड़ा 172 है। पीटीआई के नेतृत्व वाला गठबंधन 179 सदस्यों के समर्थन से बना था। इमरान खान की पीटीआई पार्टी में 155 सदस्य  और बलूचिस्तान अवामी पार्टी -बीएपी तथा ग्रैंड डेमोक्रेटिक अलायंस -जीडीए सहित प्रमुख सहयोगियों के पास करीब 20 सीटें हैं।

अंतरराष्ट्रीय