Origin of Mahanadi VIDEO: सिहावा पर्वत के इस छोटे से कुंड से निकलती है छत्तीसगढ़ की जीवनदायिनी महानदी, रामायण काल में यहां महर्षि श्रृंगी ने की थी तपस्या

Origin of Mahanadi VIDEO: सिहावा पर्वत के इस छोटे से कुंड से निकलती है छत्तीसगढ़ की जीवनदायिनी महानदी, रामायण काल में यहां महर्षि श्रृंगी ने की थी तपस्या

Origin of Mahanadi VIDEO: महानदी को छत्तीसगढ़ की जीवनदायिनी कहा जाता है। यह छत्तीसगढ़ में बहने वाली सबसे बड़ी नदी है जो यहां के सर्वाधिक भूभाग को सिंचित और समृद्धि करती है। महानदी का उद्गम रायपुर से 150 किलोमीटर दूर धमतरी जिले में स्थित सिहावा नामक पर्वत श्रेणी से हुआ है।

महानदी का प्रवाह दक्षिण से उत्तर की तरफ है। सिहावा से निकलकर राजिम में यह जब पैरी और सोढुल नदियों के जल को ग्रहण करती है तब तक विशाल रूप धारण कर चुकी होती है। ऐतिहासिक नगरी आरंग और उसके बाद सिरपुर में वह विकसित होकर शिवरीनारायण में अपने नाम के अनुरुप महानदी बन जाती है। महानदी की धारा इस धार्मिक स्थल से मुड़ जाती है और दक्षिण से उत्तर के बजाय यह पूर्व दिशा में बहने लगती है। संबलपुर में जिले में प्रवेश लेकर महानदी छ्त्तीसगढ़ से बिदा ले लेती है। अपनी पूरी यात्रा का आधे से अधिक भाग वह छत्तीसगढ़ में बिताती है।

PP VLOGS प्रेजेंट्स- छोटे से कुंड से निकली महानदी

सिहावा से निकलकर बंगाल की खाड़ी में गिरने तक महानदी लगभग 855 किलोमीटर की दूरी तय करती है। आपको यह जानकर बेहद आश्चर्य होगा कि इस विशाल नदी का उद्गम सिहावा पर्वत में स्थित एक छोटे से कुंड से होता है। इसी स्थान पर रामायण कालीन पात्र श्रृंगी ऋषि ने तपस्या की, जिन्होंने राजा दशरथ के यहां करवाया था पुत्रकामेष्टि यज्ञ। तब हुआ था राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न का जन्म। इसी सिहावा पर्वत की सैर करा रहे हैं यूट्यूब पर प्रशांत गुप्ता। अपने ताजा वीडियो में उन्होंने सिहावा से जुड़ी प्राचीन कहानी बताई है और यहां के प्राकृतिक सौंदर्य को दर्शाया है।

वीडियो देखें

वीडियो को LIKE, SHARE & SUBSCRIBE जरूर कीजियेगा।

छत्तीसगढ़ में महानदी के तट पर धमतरी, कांकेर, चारामा, राजिम, चम्पारण, आरंग, सिरपुर, शिवरी नारायण और ओड़िशा में सम्बलपुर, बलांगीर, कटक आदि स्थान हैं तथा पैरी, सोंढुर, शिवनाथ, हसदेव, अरपा, जोंक, तेल आदि महानदी की प्रमुख सहायक नदियां हैं। महानदी का डेल्टा कटक नगर से लगभग सात मील पहले से शुरू होता है। यहाँ से यह कई धाराओं में विभक्त हो जाती है तथा बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है।

छत्तीसगढ़ पर्यटन वीडियो