NASA : मंगल की सतह पर वैज्ञानिकों ने खोजा नमक, सुलझ सकती है लाल ग्रह की कार्बनिक पहेली▶️

NASA : मंगल की सतह पर वैज्ञानिकों ने खोजा नमक, सुलझ सकती है लाल ग्रह की कार्बनिक पहेली▶️

NASA : मंगल ग्रह पर शोध कर रही नासा के वैज्ञानिकों की एक टीम ने वहां कार्बनिक या कार्बन युक्त, लवण मौजूद होने की संभावना जताई है। नासा की टीम को वहां कार्बनिक लवण मौजूद होने के संकेत मिले हैं। प्राचीन मिट्टी के बर्तनों की तरह, ये लवण कार्बनिक यौगिकों के रासायनिक अवशेष हो सकते हैं। नासा के क्यूरियोसिटी रोवर द्वारा पहले भी इस तरह के अवशेषों का पता लगाया गया था। मंगल ग्रह पर कार्बनिक यौगिक और लवण भूगर्भिक प्रक्रियाओं द्वारा निर्मित हो सकते हैं या प्राचीन सूक्ष्मजीव जीवन के अवशेष हो सकते हैं, अब वैज्ञानिक आगे इस बात पर अध्ययन कर रहे हैं।

मंगल ग्रह पर पहले कभी कार्बनिक पदार्थ मौजूद था, इस विचार को ज्यादा पुख्ता करने के साथ-साथ सीधे कार्बनिक लवण का पता लगाने से आधुनिक मंगल ग्रह पर भविष्य में की संभावना का भी अंदाजा हो सकेगा। यह ठीक उसी तरह हो सकता है जैसे हमारी पृथ्वी पर कुछ जीव ऊर्जा के लिए ऑक्सालेट्स और एसीटेट जैसे कार्बनिक लवण का उपयोग करते हैं।

मंगल ग्रह की सतह की तस्वीर

मंगल की धरती का अध्ययन कर रही नासा की टीम के एक कार्बनिक भू-रसायनविद् जेम्स एमटी लुईस ने कहा अगर हम यह निर्धारित करते हैं कि मंगल ग्रह पर कहीं भी कार्बनिक लवण केंद्रित हैं, तो हम उन क्षेत्रों की और जांच करना चाहते हैं और आदर्श रूप से सतह के नीचे गहराई से ड्रिल करना चाहते हैं, जहां बेहतर ढंग से संरक्षित कार्बनिक लवण मौजूद हो सकता है। लुईस मैरीलैंड के ग्रीनबेल्ट में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर पर आधारित यह शोध, जर्नल ऑफ जियोफिजिकल रिसर्च प्लैनेट्स में प्रकाशित हुआ।

लुईस की प्रयोगशाला में प्रयोग और मंगल पर नमूना विश्लेषण (SAM से डेटा का विश्लेषण) के साथ-साथ वहां मौजूद रोबोट क्यूरियोसिटी की एक पोर्टेबल रसायन विज्ञान प्रयोगशाला में भी अध्ययन के आधार पर जुटाई गई जानकारियां अप्रत्यक्ष रूप से वहां कार्बनिक लवण की उपस्थिति की ओर इशारा करती हैं, लेकिन मंगल पर सीधे उनकी पहचान करना SAM जैसे उपकरणों के लिए थोड़ा मुश्किल है। SAM इन नमूनों की संरचना को दर्शाने वाली गैसों को छोड़ने के लिए मंगल ग्रह की मिट्टी और चट्टानों को गर्म करता है। चुनौती यह है कि कार्बनिक लवणों को गर्म करने से केवल साधारण गैसें निकलती हैं जिन्हें मंगल ग्रह की मिट्टी में अन्य अवयवों द्वारा छोड़ा जा सकता है।

दूसरे ग्रहों पर जीवन की खोज के लिए वहां कार्बनिक अणुओं, या उनके कार्बनिक नमक अवशेषों को खोजना आवश्यक है, लेकिन यह मंगल की सतह पर एक चुनौतीपूर्ण कार्य है। यहां अरबों वर्षों के विकिरण ने कार्बनिक पदार्थों को मिटा दिया है या नष्ट कर दिया है। मिट्टी के बर्तनों के टुकड़ों को खोदने वाले एक पुरातत्वविद् की तरह, क्यूरियोसिटी मंगल ग्रह की मिट्टी और चट्टानों को इकट्ठा करता है, जिसमें कार्बनिक यौगिकों के छोटे-छोटे टुकड़े हो सकते हैं और फिर SAM और अन्य उपकरण उनकी रासायनिक संरचना की पहचान करते हैं।

हालांकि, लुईस और उनकी टीम का प्रस्ताव है कि एक अन्य खोजी उपकरण CheMin जो मंगल ग्रह की मिट्टी, रसायन विज्ञान और खनिज विज्ञान का अध्ययन कर रहा है वह एक अलग तकनीक का उपयोग करता है और कुछ कार्बनिक लवणों का पता लगा सकता है।

अंतरराष्ट्रीय विज्ञान तकनीकी