Kondagaon: जंगल के बीच से 24 किलोमीटर पैदल चलकर बच्चों तक पोषण की खुराक पहुंचाती हैं रजबती

Kondagaon: जंगल के बीच से 24 किलोमीटर पैदल चलकर बच्चों तक पोषण की खुराक पहुंचाती हैं रजबती

पूनम दास मानिकपुरी, कोंडागांव। Kondagaon: बच्चे देश का भविष्य है उन्हीं पर आने वाले सुखद दिनों के सपने की उम्मीद टिकी है। बस्तर संभाग में दिन कुपोषण से तगड़ी जंग लड़ी जा रही है। प्रशासन ने यहां पर कुपोषण को पूरी तरह खत्म करने का बीड़ा उठाया है और इस काम में कुछ समर्पित कर्म योगी अपनी बहुमूल्य सेवाएं दे रहे हैं। उन्हीं में से एक हैं रजबती, जो बच्चों तक पोषक आहार और अंडा पहुंचाने के लिए उसे सिर मिलाकर 24 किलोमीटर का सफर जंगल के बीच पगडंडियों से होकर करती है।

खबर सुनें👆🔈


कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने जिले में नगद पीला योजना संचालित है। जिले में संचालित आंगनबाड़ी केंद्रों के कार्यकर्ताओं द्वारा बच्चों का वजन कर कुपोषित बच्चों को पोषण आहार प्रदान किया जा रहा है, वहीं मध्यम व अति कुपोषित बच्चों को सप्ताह में 3 दिन अंडा खिलाने की योजना है नक्सल गढ़ में कार्यरत, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को कुपोषण दूर करने का जुनून ऐसा अंडे को सिर में लेकर 24 किलोमीटर पैदल चलकर गांव तक पहुंच रही हैं।

अबूझमाड़ से सटे धुर नक्सल प्रभावित ग्राम कडेनार के चिकपाल पारा में वर्ष 2009 से आंगनबाड़ी केंद्र स्थापना के बाद नक्सल दहशत को दरकिनार कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के रूप में विगत 11 वर्षों से श्रीमती रजबती बघेल सेवा दे रही, आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से अति व मध्यम कुपोषित बच्चों को पोषण आहार के साथ अंडा वितरित किया जा रहा, रजबती ने बताया- वर्तमान में कडेनार के चिकपाल आंगनबाड़ी केंद्र में कुल 30 बच्चे अध्ययनरत हैं जिनमें सामान्य 23, मध्यम कुपोषित बच्चों की संख्या 7 है। 7 बच्चों को सप्ताह में 3 दिन अंडा खिला रहे हैं।


मार्ग के अभाव में कड़ेनार पहुंचने के लिए जंगलों व पहाड़ों के बीच नदी नाले से होकर गुजरना पड़ता है। इन रास्तों से होकर सायकिल में अंडा लेकर जाने से फूटने का डर होता है। इसलिए मर्दापाल से लगभग 24 किलोमीटर दूर कडेनार तक सिर में ढोकर अंडे को पहुंचाती हूं , ताकि नक्सल गढ़ में कुपोषित बच्चों को पोषण आहार व अंडा खिलाकर कुपोषण को मात दे सके।


आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अच्छा कार्य कर रही हैं, पहुंच विहिन क्षेत्रों तक पोषण आहार पहुंचाने की जल्द ही व्यवस्था की जाएगी।

  • पुष्पेंद्र कुमार मीणा, कलेक्टर, कोंडागांव

Folk Songs and Dances from India: A Collection of Chhau and Nagpuri Song and Dances from Bihar

कोंडागांव छत्तीसगढ़