Innovation in Education: आपदा को अवसर में बदलने वाले शिक्षक धर्मानन्द, पीडीएफ गुरुजी के रूप में बनाई पहचान

Innovation in Education: आपदा को अवसर में बदलने वाले शिक्षक धर्मानन्द, पीडीएफ गुरुजी के रूप में बनाई पहचान

रायपुर। #PdfGuruji : Innovation in Education: आपने सुना होगा आपदा त्रासदी लाती हैं परन्तु ऐसे कम ही लोग होते हैं जो अपने कार्यो और नवाचारो से आपदा को अवसर में बदलने का साहस कर पाते हैं। सूरजपुर जिले के शासकीय प्राथमिक शाला पाठकपुर, विकासखण्ड एवं जिला सूरजपुर, छत्तीसगढ़ के सहायक शिक्षक धर्मानन्द गोजे ने कोविड काल में अपने संकल्प शक्ति और समर्पित भाव से निरंतर कार्य कर एक मिसाल कायम की हैं ।

innovation in education

बच्चों के लिए ई पत्रिका का भी प्रकाशन
इन्होने प्रथम लॉकडाउन से ही अपने शैक्षिक नवाचार का प्रदर्शन “पीडीऍफ़ गुरूजी” के रूप में किया। इस नवाचार में शिक्षक ने एक ऐसी व्यवस्था तैयार की जिसकी सहायता से कम तकनीकि क्षमतावाले छात्रों को एक ही स्थान पर पढ़ई तुहर दुआर पोर्टल की पाठ्य सामग्री बैगैर यूआरएल के मिल जाये और बिना रूकावट अपनी पढाई जारी रख सके। “पीडीऍफ़ गुरूजी” को जिले और राज्यस्तर पर काफी सराहना मिली। इसके बाद शिक्षक धर्मानन्द गोजे ने स्कूली बच्चों व शिक्षकों के लिए एक ई-बाल पत्रिका “बाल स्पंदन” का प्रकाशन भी प्रारम्भ किया। यह सूरजपुर जिले की प्रथम ई-पत्रिका हैं जिसका उपयोग छात्र और शिक्षक कर रहे हैं।
कोविड काल में शिक्षक धर्मानन्द गोजे ने न केवल नवाचार किए वरन अघोषित कोरोना वारियर्स के रुप में अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई हैं चाहे कोविड सर्वे हो या चेक पोस्ट हर जगह मुस्तैदी के साथ समर्पित भाव से अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन कर रहे हैं। वर्ष 2020 में जागरूकता अभियान संचालन के दौरान कोरोना पोजिटिव भी हुए और चिकित्सा उपरांत स्वस्थ्य हो कर पुनः अपने कार्य को अभी भी निरंतर जारी रखा हैं।

click here for download this app from Play Store📲
इस दौरान शिक्षक धर्मानन्द गोजे का अपने जिले में पीएलसी ब्लॉक इकाई के लिए पुस्तिका निर्माण में भी योगदान रहा। इन्होने अंग्रेजी विषय पर अपना कार्य प्रकाशित किया। साथ ही अपनी पीएलसी के लिए विभिन्न विषयों पर 100 से अधिक बिग बुक तैयार कर जिले में मिसाल कायम की हैं। ये सभी बिग बुक बाल केन्द्रित हैं अलग-अलग विषय आधारित संकल्पना और सरल से कठिन की ओर की अवधारणा पर आधारित हैं। साथ ही इन्होने डीवीडी मास्टर जी का नवाचार करते हुए अपने संकुल क्षेत्र के बच्चों को पाठ्य सामग्री का एक कम्बो पैक तैयार कर डीवीडी मास्टर जी के रुप में उपलब्ध कराया हैं।
शिक्षक धर्मानन्द गोजे केवल अपने जिले में ही कार्य नही कर रहे हैं, उनका योगदान राज्य की कई योजनाओं में रहा है। इन्होने पढई तुहर दुआर पोर्टल में एप्रूवर के तौर पर सैकड़ों विडिओ का अवलोकन कर उन्हें उनका उचित स्थान दिया हैं।

innovation in education

ई बाल पत्रिका व अन्य पाठ्य सामग्री पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 📲

राज्य चर्चापत्र समूह का संचालन
वर्तमान में राज्य चर्चापत्र समूह का संचालन एवं प्रबंधन की जिम्मेदारी का निर्वहन करने वाले शिक्षक धर्मानन्द गोजे के नाम छत्तीसगढ़ राज्य का पहला चर्चापत्र पॉडकास्ट तैयार करने का श्रेय दिया जाता हैं इन्होने कोविड काल के दौरान राज्य भर के शिक्षकों से ऑनलाइन सम्पर्क कर केवल 48 घंटे की सिमित समयावधि में पॉडकास्ट तैयार कर पोर्टल के माध्यम से छत्तीसगढ़ राज्य के शिक्षकों को उपलब्ध कराया हैं। साथ ही अनवरत हर माह राज्य चर्चापत्र के साथ चर्चापत्र पॉडकास्ट का नियमित प्रसारण की जिम्मेदारी इन्हें राज्य द्वारा दी गई हैं।
बहुमुखी प्रतिभा के धनी धर्मानन्द गोजे के द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में कई कार्य किए हैं और लगातार समर्पण भाव के साथ बेहतरीन कार्य कर रहें हैं। शिक्षक राज्य ब्लॉग लेखक का भी कार्य कर रहे हैं जिन्होंने कई शिक्षकों और छात्रों के ब्लॉग का लेखन भी किया हैं साथ ही स्थानीय बोली सरगुजिहा बोली में अनुवाद का भी लेखन कर रहे हैं। अनवरत अपने शैक्षिक कार्यो नवाचार कर रहे हैं हम इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं।

(स्रोत- राज्यस्तरीय पत्रिका शिक्षा के गोठ में प्रकाशित आलेख)

राष्ट्रीय शिक्षा