IBPS exam strategy: ऐसी सटीक रणनीति के साथ करें बैंकिंग परीक्षा की तैयारी, जरूर मिलेगी सफलता

IBPS exam strategy: ऐसी सटीक रणनीति के साथ करें बैंकिंग परीक्षा की तैयारी, जरूर मिलेगी सफलता

IBPS exam strategy: बैंकिंग सेक्टर की जॉब को लेकर युवाओं में हमेशा ही क्रेज बरकरार रहा है। फाइनेंस और बैंकिंग के सेक्टर में काम करना। कैरियर का एक शानदार विकल्प बन सकता है। पब्लिक सेक्टर बैंकों में कर्मचारियों अधिकारियों की नियुक्ति के लिए एक संयुक्त बैंकिंग भर्ती परीक्षा का आयोजन किया जाता है। दो अलग-अलग ग्रेड में। कर्मचारियों और अधिकारियों की भर्ती के लिए परीक्षाएं ली जाती हैं। एक तरह की भर्ती के जरिए बैंक क्लर्क की जॉब आप पा सकते हैं और दूसरी बैंक पीओ की भर्ती होती है। बैंक पीओ के लिए स्नातक की डिग्री होना जरूरी है। आइये इस आर्टिकल में जानते हैं  कि किस तरह एक सुनियोजित नीति के साथ बैंकिंग की परीक्षा देकर एक अच्छी नौकरी कैसे हासिल की जा सकती है।

बैंकिंग सेक्टर में अधिकारियों कर्मचारियों की भर्ती के लिए  आईबीपीएस और आरआरबी द्वारा। क्लर्क और पीओ ग्रेड की भर्ती परीक्षाएं साल में दो बार आयोजित की जाती हैं। जबकि स्पेशलिस्ट अफसर के लिए साल में एक बार परीक्षा आयोजित होती है।

बैंक भर्ती परीक्षा का पाठ्यक्रम

1. तर्क प्रश्न (Reasoning Question)

2. मात्रात्मक योग्यता और संख्यात्मक तर्क (Quantitative Aptitude or Numerical Reasoning)

3. कंप्यूटर का ज्ञान (Computer Knowledge)

4. सामान्य ज्ञान (General Awareness)

5. अंग्रेजी (English)

बैंक की तैयारी खुद से घर पर भी की जा सकती है, इसके लिए आपको थोड़ी समझदारी और एक सही टाइम टेबल की जरूरत है। सेल्फ स्टडी के फायदे बहुत हैं आप अपनी पढाई अपनी स्पीड के साथ कर सकते हैं, आप अपने  टाइम टेबल के जरिये स्टडी कर सकते हैं। जिस टॉपिक पर लगता है की आपको ज्यादा समय लगता है आप उस पर ज्यादा टाइम दे सकते हैं। आप अपनी पसंद का पाठ्यक्रम पढ़ सकते हैं। आपका टाइम भी बचता है, जिसका इस्तेमाल आप अपने कमजोर सब्जेक्ट्स पर दे सकते हैं। सबसे प्रमुख बात है कि आपके पैसे भी बचते हैं।

सभी विषयों पर ध्यान दें

तर्कशक्ति (reasoning) 

बैंक भर्ती परीक्षा में इसकी अच्छी पकड़ से आप अच्छे से अच्छे नंबर ला सकते हैं। पेपर के इस हिस्से में सवाल के 4 विकल्प होते हैं जिसमें से आपको 1 सही जबाब चुनना होता है। इसमें रिश्तेदार, दिशा, डायग्राम के बारे में सवाल होते हैं। रिजनिंग में शॉर्ट ट्रिक्स बहुत चलती है जिससे आप अधिक प्रैक्टिस से सिख सकते हैं।  रीजनिंग की तैयारी हमेशा शांत माहौल में एकाग्रता के साथ करें। इससे संबंधित प्रैक्टिस सेट आपको बाजार में आसानी से मिल जाएंगे।

अंकगणितीय क्षमता (Quantitative Aptitude) 

इसमें सामान्यतः दसवीं कक्षा स्तर तक के गणित के सवाल आते हैं। इसके लिए आपको वर्ग, ज्यामिति, बीज गणित, अंक प्रणाली, अनुपात, प्रतिशत, ब्याज, मूलधन आदि प्रश्न आने बहुत जरूरी हैं। इसको हल करने के लिए जरूरी है की आपका मैथ्स अच्छा होना चाहिए। आप अगर स्कूल या कॉलेज में है और साथ-साथ बैंक की तैयारी कर रहे हैं तो आप गणित पर ज्यादा मेहनत करें।

अंग्रेजी (English)

अगर आपकी अंग्रेजी अच्छी है तो आप इस सेक्शन में अधिक नंबर लाकर  अपने ओवरऑल मार्क्स बढ़ा सकते हैं। परीक्षा में English word के meaning, Grammar, Paragraph आते हैं।

जनरल नॉलेज (General Knowledge)

बैंक भर्ती परीक्षा में जनरल अवेयरनेस के बारे में भी सवाल आते हैं। इस सेक्शन की तैयारी के लिए आपको समसामयिक घटनाओं से पूरी तरह अपडेट रहना होगा इसके लिए सभी ताजा न्यूज़ पेपर और करंट अफेयर्स मैगजीन के अलावा न्यूज़ चैनल देख कर खुद को अपडेट करें।

कंप्यूटर नॉलेज (Computer Knowledge)

आज के समय में सारे काम कंप्यूटर में होते हैं। ऐसे में  बैंक भी पीछे नहीं है, और देख भी गया है आजकल कोई भी बिना कंप्यूटर ज्ञान के नहीं है। अगर आपने  बेसिक कंप्यूटर भी किया है तो आप कम्पूटर के बारे में सब कुछ जान सकते हैं। आप ऑनलाइन भी कंप्यूटर के बारे में सवाल पढ़ सकते हैं।

बैंकिंग भर्ती परीक्षा में सफलता के लिए समय पर सवालों को हल करना बेहद जरूरी है। कम समय में ज्यादा से ज्यादा सवाल हल करें, आप  स्टॉपवॉच रखें, फिर देखें टाइम में आप कितने सवाल हल कर पा रहे हो। रोज पढ़ाई करें इससे आपका कॉन्फिडेंस बढ़ेगा।

जिस बैंक की परीक्षा आप देना चाहते हैं उस बैंक की पूरी जानकारी आप ऑनलाइन देख सकते हैं। आप फेसबुक पर उनके पेज को भी फॉलो कर सकते हैं। टाइम टेबल बनाये और रोज का रूटीन बनाकर फोकस करें।

परीक्षा की तैयारी के लिए आप कोचिंग कर सकते हैं या self-study का सहारा ले सकते हैं।  इसके अलावा ऑनलाइन क्लासेज भी की जा सकती हैं। आप तैयारी का कोई भी जरिया चुनें, लेकिन खुद की अलग से तैयारी बहुत जरूरी होती है, जो आपके फ्रेंड इसकी तैयारी कर सकते है आप उनके साथ खाली टाइम में ग्रुप डिस्कशन कर सकते है।

पिछले सालों के सवालों को देखें और उन्हें हल करें। इससे आपको पता लग जायेगा कि किस  तरह के सवाल आते हैं और उन्हें हल करने में किस तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

कैरियर रोजगार