Environment Report: वन क्षेत्र बढ़ाने के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर भारत, 10 साल में 20 फीसद बढ़ा घने जंगल का दायरा

Environment Report: वन क्षेत्र बढ़ाने के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर भारत, 10 साल में 20 फीसद बढ़ा घने जंगल का दायरा

Environment Report: आर्थिक मामलों के विभाग द्वारा हाल ही में जारी आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि भारत वन क्षेत्र बढ़ाने के मामले में दुनिया में तीसरे स्थान पर है। भारत ने 2010 और 2020 के बीच हर साल 2,66,000 हेक्टेयर वन क्षेत्र जोड़ा है।

भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्र का 24% भाग वनों से आच्छादित है। भारतीय वनों में विश्व के 2% वन हैं। सर्वेक्षण के अनुसार सर्वाधिक वन वाले देश ब्राजील, कांगो, पेरू और रूस हैं। ब्राजील की कुल भूमि का 59% भाग वनों से आच्छादित है। पेरू में यह 57%, कांगो में 56%, रूस में 50% है। लगभग दस देशों ने वैश्विक वनों में 66% का योगदान दिया।

भारतीय राज्यों में वन आवरण
मध्य प्रदेश में सबसे अधिक वन क्षेत्र था। मध्य प्रदेश में भारत के कुल वन क्षेत्र का 11% हिस्सा है। इसके बाद अरुणाचल प्रदेश का स्थान है। राज्य में देश के कुल वन क्षेत्र का 9% हिस्सा है। छत्तीसगढ़ में 8%, ओडिशा में 7% और महाराष्ट्र में 7% है।

Google file photo

वनावरण का उच्चतम अनुपात
राज्य के भौगोलिक क्षेत्र की तुलना में वनों का उच्चतम अनुपात अर्थात् वनों के अंतर्गत आने वाला क्षेत्र इस प्रकार है:

मिजोरम: 85%
अरुणाचल प्रदेश: 79%
मेघालय: 76%
मणिपुर: 74%
नागालैंड: 74%
2011 और 2021 के बीच भारत में बहुत घने वन क्षेत्र में 20% की वृद्धि हुई है। खुले वन क्षेत्र में 7% की वृद्धि हुई है।

‘द स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट’ को इस वर्ष सार्वजनिक किया गया था। पर्यावरणविद वनावरण की गणना में अपनाई गई कार्यप्रणाली पर सवाल उठा रहे हैं। उनके अनुसार सर्वेक्षण में वन क्षेत्रों के बाहर वृक्षारोपण और बाग-बगीचे शामिल हैं। इस पर, केंद्र सरकार ने उत्तर दिया कि भारत में “वन” की परिभाषा वैश्विक परिभाषाओं के अनुरूप है।

वन की परिभाषा
भारतीय वन अधिनियम, 1927 वन को पेड़ों, ब्रशवुड और जंगल से आच्छादित भूमि के रूप में परिभाषित करता है। भारतीय कानूनी व्यवस्था में वन की कोई उचित परिभाषा मौजूद नहीं है। 1996 में, सुप्रीम कोर्ट ने वन को उस क्षेत्र के रूप में परिभाषित किया जो सरकारी रिकॉर्ड में वन के रूप में दर्ज है। इन दो परिभाषाओं का देश में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। भारत में वन की परिभाषा देना कठिन है क्योंकि देश में 16 विभिन्न प्रकार के वन हैं।

छत्तीसगढ़ के संदर्भ में रिपोर्ट
छत्‍तीसगढ़ का कुल 135191 वर्ग किलोमीटर भौगौलिक क्षेत्रफल के 44.12% क्षेत्र वना‍च्‍छादित है। यह सकल भू-भाग का 44.21 % होता है, जो देश के कुल वन क्षेत्र का 7.82 % है। छत्तीसगढ़ में संरक्षित वनक्षेत्र- 24034 वर्ग किमी- 43.13 फीसद, अनारक्षित वनक्षेत्र- 25786 वर्ग किमी- 40.13 फीसद तथा अवर्गीकृत वनक्षेत्र- 9952 वर्ग किमी- 16.65 फीसद है। छत्तीसगढ़ में वनों के विकास की सही नीति तय करने के लिए वन विकास निगम लिमिटेड की स्थापना साल 2001 में हुई थी। हाल ही में जारी की गई भारतीय राज्य वन रिपोर्ट (आईएसएफआर) के मुताबिक छत्तीसगढ़ के वनक्षेत्र में 106 वर्ग किलोमीटर की बढ़त दर्ज की गई है। आईएसएफआर हर दो साल में जारी की जानी वाली रिपोर्ट है। इससे पहले या रिपोर्ट 2019 में जारी की गई। पिछली रिपोर्ट में छत्तीसगढ़ में 64 वर्ग किलोमीटर वन क्षेत्र में वृद्धि दर्ज की गई थी।

प्रकृति राष्ट्रीय