Durg : अभिषेक मिश्रा हत्या मामले में किम्सी जैन को कोर्ट ने किया बरी, अन्य दो को आजीवन कारावास🔈

Durg : अभिषेक मिश्रा हत्या मामले में किम्सी जैन को कोर्ट ने किया बरी, अन्य दो को आजीवन कारावास🔈

खबर सुनने के लिए यहां क्लिक करें 👆

दुर्ग। Durg : बहुचर्चित अभिषेक मिश्रा Abhishek Mishra हत्याकांड मामले में दुर्ग जिला न्यायालय ने सोमवार को फैसला सुनाते हुए महिला आरोपी किम्सी जैन को बरी कर दिया है। इस मामले के मुख्य साजिशकर्ता किम्सी के पति विकास जैन और चाचा अजीत सिंह को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने दोनों पर 15 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है।

बता दें कि 6 साल पुराने घटनाक्रम में भिलाई के शंकराचार्य इंजीनियरिंग कॉलेज के चेयरमैन आईपी मिश्रा के इकलौते बेटे अभिषेक मिश्रा को शादीशुदा प्रेमिका किम्सी जैन ने मौत के घाट उतार दिया गया था। जिस जगह पर उसकी लाश दफनाई गई थी वहां गोभी के पौधे उगा दिए गए थे।

किम्सी जैन.

9 नवंबर 2015 को अभिषेक अपने घर से किसी काम से निकला, लेकिन काफी देर तक वापस नहीं आया। 10 नवंबर को भी अभिषेक नहीं लौटा, तो इसकी सूचना पुलिस को दी जाती गई। शुरू में पुलिस इसे अपहरण की घटना मान रही थी लेकिन सप्ताह बीतने के बाद भी जब अभिषेक का कोई पता नहीं चला तो पुलिस ने उसके निजी जीवन के पन्ने पलटने शुरू किए। आखिरकार वारदात के 44 दिन बाद पुलिस ने विकास और अजीत नाम के दो शख्स को संदेह के आधार पर हिरासत में लिया। लंबी पूछताछ में दोनों ने अभिषेक की हत्या करने की बात कबूल कर ली। अगले दिन स्मृति नगर स्थित एक मकान के गार्डन से अभिषेक की लाश बरामद कर गई। उसे दफनाने के बाद उसके ऊपर फूल गोभी के पौधे रोप दिए गए थे।

इस घटनाक्रम में एक ऐसा प्रेम प्रसंग सामने आया जिसमें शादीशुदा प्रेमिका किम्सी जैन ने बाद में अभिषेक से परेशान होकर अपने पति और चाचा के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी थी। आरोपियों ने इस हत्या को एक फिल्मी पटकथा के आधार पर दबाने की भरसक कोशिश की, लेकिन अंततः राज खुल ही गया।

छत्तीसगढ़ दुर्ग