Current Affairs: घटना चक्र बीता सप्ताह 8 से 14 नवंबर

Current Affairs: घटना चक्र बीता सप्ताह 8 से 14 नवंबर

घटना चक्र बीता सप्ताह 8 से 14 नवंबर: Current Affairs: : राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय और छत्तीसगढ़ की प्रमुख घटनाओं का साप्ताहिक संक्षेप संकलन। प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी के दृष्टि से महत्वपूर्ण समसामयिक घटनाओं का सार।

राष्ट्रीय/ अंतरराष्ट्रीय

क्या है नोरोवायरस (Norovirus)?

केरल के वायनाड जिले में नोरोवायरस के पहले मामले की पुष्टि हुई है। नोरोवायरस एक पशु जनित रोग है। यह दूषित पानी और भोजन के माध्यम से फैलता है।

नोरोवायरस, वायरस का एक समूह है, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल बीमारी का कारण बनता है। यह वायरस पेट और आंतों की परत में सूजन, गंभीर उल्टी और दस्त का कारण बनता है। स्वस्थ लोगों पर इस वायरस का कोई खास प्रभाव नहीं पड़ता है। हालांकि, यह बुजुर्गों, छोटे बच्चों और अन्य सह-रुग्णता (comorbidities) वाले लोगों को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है।

यह बीमारी कैसे फैली?
यह वायरस बहुत आसानी से और तेजी से फैलता है। यह संक्रमित लोगों से दूसरे लोगों में फैलता है जब सीधा संपर्क होता है, साथ ही दूषित खाद्य पदार्थों और सतहों के माध्यम से भी फैलता है। यह इस बीमारी की शुरुआत के बाद दो दिनों तक फैल सकता है। इस तरह का प्रकोप अक्सर नवंबर से अप्रैल के बीच होता है।

नोरोवायरस के लक्षण
नोरोवायरस के सामान्य लक्षणों में पेट दर्द, दस्त, बुखार, उल्टी, सिरदर्द, मतली और शरीर में दर्द शामिल हैं।


जनरल प्रभु राम शर्मा को भारतीय सेना के जनरल की मानक उपाधि

राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविन्द ने आज (10 नवंबर, 2021) राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक विशेष अलंकरण समारोह में नेपाली सेना के चीफ ऑफ द आर्मी स्टाफ जनरल प्रभु राम शर्मा को भारतीय सेना के जनरल की मानक उपाधि प्रदान की। प्रभु राम शर्मा को इसी साल सितंबर में नेपाल सेना का प्रमुख नियुक्त किया गया है, उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से युद्ध एवं रणनीति में एम फिल की डिग्री ली हुई है। इसके अलावा उन्होंने भारत में सेना के टेक्निकल अधिकारी की ट्रेनिंग भी ली हुई है। 1984 में प्रभु राम शर्मा ने नेपाल सेना में सेकेंड लेफ्टिनेंट के तौर पर कमिशन लिया था और इसी साल वे सेना के जनरल बने हैं। पिछले साल नवंबर महीने में भारतीय थल सेना के प्रमुख जनरल एम एम नरवणे को नेपाल दौरे के दौरान एक विशेष समारोह में राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने नेपाली सेना के जनरल की मानद उपाधि प्रदान की थी।


अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन का 101वां सदस्य देश बना संयुक्त राज्य अमेरिका

दुनियाभर में सौर ऊर्जा को अपनाने की दिशा में तेजी लाने के क्रम में, अमेरिका भी एक सदस्य देश के रूप में बुधवार को अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) में शामिल हो गया। यूएनएफसीसीसी सीओपी26 जलवायु सम्मेलन में आज अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी ने यह घोषणा की। सौर ऊर्जा वाले अप्रोच के जरिए वैश्विक ऊर्जा संक्रमण में तेजी लाने के लिए आईएसए की रूपरेखा वाले समझौते पर हस्ताक्षर करने वाला अमेरिका 101वां देश बन गया है।
रूपरेखा समझौते पर हस्ताक्षर करते हुए जलवायु पर अमेरिकी राष्ट्रपति के विशेष दूत जॉन केरी ने कहा, ‘हम अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन में शामिल होकर खुश हैं जिसकी स्थापना में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अगुआई की। हमने इस संबंध में ब्योरे का अध्ययन किया है और यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका हिस्सा बनकर हम खुश हैं। यह वैश्विक स्तर पर सौर ऊर्जा के तेजी से और ज्यादा उपयोग की दिशा में अहम योगदान होगा। यह विशेष रूप से विकासशील देशों के लिए महत्वपूर्ण होगा।’


राष्ट्रीय शिक्षा दिवस

स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद की जयंती के अवसर पर 11 नवंबर को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाया जाता है।
यह दिन आमतौर पर कई समारोहों और कार्यक्रमों का आयोजन करके स्कूलों में मनाया जाता है।
यह दिवस 2008 से मनाया जा रहा है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने भारत में शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान को याद करते हुए मौलाना अबुल कलाम आजाद के जन्मदिन के उपलक्ष्य में 11 सितंबर, 2008 को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाने की घोषणा की थी।

मौलाना अबुल आज़ाद एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता, लेखक, इस्लामी धर्मशास्त्री और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) के एक वरिष्ठ नेता थे। वह स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री बने और 1947 से 1958 तक पंडित जवाहरलाल नेहरू के मंत्रिमंडल में अपनी सेवाएं दीं।


खुदरा प्रत्यक्ष योजना और रिजर्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना

भारतीय रिजर्व बैंक ने दो नई उपभोक्‍ता केंद्रित पहल का शुभारंभ किया। ये योजनाएं हैं- खुदरा प्रत्यक्ष योजना और रिजर्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना। ये योजनाएं देश में निवेश के दायरे का विस्तार करेंगी और निवेशकों के लिए पूंजी बाजार तक पहुंच आसान और अधिक सुरक्षित बनाएंगी। एकीकृत लोकपाल योजना पहल इस दिशा में महत्‍वपूर्ण परिणाम देगी। खुदरा प्रत्यक्ष योजना सरकारी प्रतिभूतियों में छोटे निवेशकों के लिए आसान और सुरक्षित पहुंच सुनिश्चित करेगी। छोटे निवेशक इससे अब सरकारी प्रतिभूतियों तक सीधी पहुंच सकेंगे और उन्‍हें बैंकों, बीमा कंपनियों या म्यूचुअल फंड जैसी अप्रत्यक्ष निवेश एजेंसियों पर निर्भर नहीं रहना पडेगा। उन्होंने बताया कि निवेशकों को केवल रिजर्व बैंक रिटेल डायरेक्ट की आधिकारिक वेबसाइट पर लॉग इन करके रिटेल डायरेक्ट गिल्ट खाता खोलने की जरूरत पडेगी। खाते के लिए किसी फंड मैनेजर की आवश्यकता नहीं होती है और निवेशक इसे अपने स्मार्टफोन से चला सकते हैं। इस खाते को निवेशक के बचत बैंक खाते से भी जोड़ा जा सकता है और इसे निशुल्‍क खोला जाएगा।


छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ की पद्म सम्मान से सम्मानित विभूतियां

सूफी गायक मदन सिंह चौहान को वर्ष 2020 का पद्म श्री सम्मान

वर्ष 2020 के पद्म पुरस्कारों में छत्तीसगढ़ से कला और संस्कृति के क्षेत्र में सूफी गायक मदन चौहान का है। गुरूजी के नाम से प्रसिद्ध मदन सिंह चौहान का जन्म 15 अक्टूबर 1947 को हुआ था। उन्होंने अपने सूफी संगीत गायन और बादल से लाखों लोगों का दिल जीता। साथ ही सूफी संगीत के अनूठे जादू को लोगों तक पहुंचाया। 74 साल की उम्र में उन्हे पद्मश्री सम्मान मिला है। मूल रूप से रायपुर के रहने वाले मदन सिंह चौहान संगीत के शिक्षक भी हैं और एक यह सम्मान उन्हें लोग गुरु जी के नाम से जानते हैं। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा पंडित कन्हैयालाल भट्ट से प्राप्त की और उन्हीं के मार्गदर्शन में तबला में उनकी पकड़ गहरी हुई। उन्होंने अपना पूरा जीवन सूफी संगीत और गजल को समर्पित कर किया।

डॉ राधेश्याम बारले को 2021 का पद्म श्री सम्मान

छत्तीसगढ़ के मशहूर पंथी नर्तक डॉ. राधेश्याम बारले को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों प्रतिष्ठित सम्मान ‘पद्मश्री’ 2021 से नवाजा गया।
डॉ. राधेश्याम बारले का जन्म दुर्ग जिले के पाटन तहसील के खोला गांव में 9 अक्टूबर, 1966 को हुआ था। डॉ. बारले ने एमबीबीएस के साथ ही इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय से लोक संगीत में डिप्लोमा किया है।
डॉ. बारले को उनकी कला साधना के लिए इससे पहले भी कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। डॉ. बारले ने पंथी नृत्य के माध्यम से बाबा गुरू घासीदास के संदेशों को देश-दुनिया में प्रसारित करने में अपना अहम योगदान दिया है।

छत्तीसगढ़ से इन्हें मिल चुके हैं पद्म सम्मान

छत्तीसगढ़ में तीजन बाई, डॉ. द्विजेंद्रनाथ मुखर्जी, पंडित मुकुटधर पाण्डेय, राजमोहिनी देवी, हबीब तनवीर, दामोदर गणेश बापट, शमशाद बेगम, फूलबासन बाई यादव, भारती बंधु, अनुज शर्मा, शेखर सेन, सबा अंजुम, ममता चंद्राकर, अरुण शर्मा, श्यामलाल चतुर्वेदी, मदन सिंह चौहान को पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है। छत्तीसगढ़ में अब तक इस पुरस्कार से 16 लोगों को नवाजा जा चुका है।

पद्म सम्मान

पद्म सम्मान भारत सरकार द्वारा शासकीय सेवकों व अन्य भारतीयों को किसी भी क्षेत्र में असाधारण और विशिष्ट सेवा के लिए पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री नामक पद्म सम्मान (पुरस्कार) प्रदान किए जाते हैं। पद्म पुरस्कारों की सिफारिशें राज्य सरकारों/ संघ राज्य प्रशासनों, केन्द्रीय मंत्रालयों/ विभागों, उत्कृष्टता संस्थानों आदि से प्राप्त की जाती हैं, जिन पर पुरस्कार समिति द्वारा विचार किया जाता है। पुरस्कार समिति की सिफारिश के आधार पर और प्रधानमंत्री, गृहमंत्री तथा राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर इन पद्म सम्मानों की घोषणा की जाती है। परन्तु इस बार सामान्य नागरिकों को ये सम्मान देने की प्रक्रिया में कुछ बदलाव किया गया है।

छत्तीसगढ़ में नए टाइगर रिजर्व पार्क की स्थापना

राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (NTCA) ने 5 अक्टूबर, 2021 को छत्तीसगढ़ सरकार के गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान और तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य के संयुक्त क्षेत्रों को एक नए टाइगर रिजर्व के तौर पर घोषित करने के प्रस्ताव को अपनी मंजूरी दे दी है।

छत्तीसगढ़ में बना यह नया टाइगर रिजर्व झारखंड और मध्य प्रदेश की सीमा से लगे राज्य के उत्तरी भाग में स्थित है। अचानकमार, उदंती-सीतानदी और इंद्रावती रिजर्व के बाद छत्तीसगढ़ में यह चौथा टाइगर रिजर्व भी होगा।

छत्तीसगढ़ सरकार के प्रस्ताव पर NTCA की 11वीं तकनीकी समिति ने 01 सितंबर को विचार किया था। एक महीने बाद वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की धारा 38V (1) के तहत इस प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है।

वर्ष, 2011 में छत्तीसगढ़ में तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य की पहचान सरगुजा जशपुर हाथी रिजर्व के एक हिस्से के रूप में की गई थी। राज्य में स्थित गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान पहले अविभाजित मध्य प्रदेश में संजय राष्ट्रीय उद्यान का एक हिस्सा था।

इन दोनों क्षेत्रों को आरक्षित वनों के रूप में पहचाना गया था और वर्ष, 2011 से ही ये दोनों क्षेत्र टाइगर रिजर्व के रूप में घोषित होने के लिए कतार में थे। हालांकि, इस नवीनतम अनुमोदन के साथ, गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान और तमोर पिंगला अभयारण्य के संयुक्त क्षेत्रों को टाइगर रिजर्व घोषित किया गया है।

क्षेत्रफल
छत्तीसगढ़ में नए टाइगर रिजर्व के ये दोनों क्षेत्र, गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान और तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य क्रमशः 1,44,000 हेक्टेयर और 60,850 हेक्टेयर क्षेत्र में फैले हुए हैं।

विस्तार
गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान कोरिया जिले में स्थित है जबकि तमोर पिंगला छत्तीसगढ़ के उत्तर-पश्चिमी कोने में सूरजपुर जिले में स्थित है।

पृष्ठभूमि
भारत में, गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान एशियाई चीते का अंतिम ज्ञात निवास स्थान था और मूल रूप से संजय दुबरी राष्ट्रीय उद्यान का हिस्सा था। वर्ष, 2001 में छत्तीसगढ़ राज्य के गठन के बाद, इसे छत्तीसगढ़ के सरगुजा क्षेत्र में एक अलग इकाई के रूप में बनाया गया था।

छत्तीसगढ़ में वन्यजीव विशेषज्ञों और कार्यकर्ताओं का मानना ​​है कि गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान को टाइगर रिजर्व में बदलना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह मध्य प्रदेश और झारखंड को जोड़ता है और बाघों को पलामू और बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के बीच आने-जाने के लिए एक गलियारा भी प्रदान करता है। दूसरी ओर, भोरमदेव छत्तीसगढ़ में इंद्रावती टाइगर रिजर्व को मध्यप्रदेश में कान्हा टाइगर रिजर्व से जोड़ता है। विशेषज्ञों के अनुसार, गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान में टाइगर रिजर्व बनाने के इस निर्णय से भोरमदेव को टाइगर रिजर्व के रूप में अधिसूचित करने के प्रयासों पर भी असर नहीं पड़ना चाहिए।


पद्मश्री भारती बंधु को तुलसी सम्मान

छत्तीसगढ़ के प्रख्यात कबीर गायक पद्मश्री स्वामी जीसीडी भारती (भारती बंधु) को इस वर्ष मध्यप्रदेश शासन का प्रतिष्ठित तुलसी सम्मान दिया जाएगा। 15 अप्रैल 1959 को रायपुर में जन्मे भारती बंधु कबीर के भजनों का गायन करते हैं और उनके संदेशों को लोगों तक पहुंचाते हैं। कला के क्षेत्र में उनके अमूल्य योगदान के लिए उन्हें वर्ष 2013 में पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है। इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ द्वारा उन्हें वर्ष 2015 में डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान की गई थी।

तुलसी सम्मान

मध्यप्रदेश शासन ने आदिवासी लोक और पारम्परिक कलाओं में उत्कृष्टता और श्रेष्ठ उपलब्धि को सम्मानित करने और इन कलाओं में राष्ट्रीय मानदण्ड विकसित करने की दृष्टि से तुलसी सम्मान के नाम से 2 लाख रुपये का एक वार्षिक पुरस्कार स्थापित किया है। यह सम्मान तीन वर्ष में दो बार प्रदर्शनकारी कलाओं और एक बार रूपंकर कलाओं के क्षेत्र में दिया जाता है। मध्यप्रदेश तुलसी सम्मान के लिए असाधारण सृजनात्मकता, उत्कृष्टता और दीर्घ साधना के निरपवाद सर्वोच्च मानदण्ड रखे गए हैं।

——————

शत प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य हासिल करने वाला प्रदेश का पहला जिला बना रायगढ़

रायगढ़ में कोविड टीकाकरण का कार्य शत-प्रतिशत पूर्ण कर लिया गया है। इससे रायगढ़ देश के उन चुनिंदा टॉप जिलों में शामिल हो गया है जहां कोविड टीकाकरण का कार्य सबसे पहले 9 नवम्बर को अपने मुकाम पर पहुंच गया है। पिछले 298 दिनों में कलेक्टर श्री भीम सिंह के नेतृत्व व जिला पंचायत सीईओ डॉ.रवि मित्तल के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग के साथ पूरे जिला प्रशासन की टीम ने अथक मेहनत व परिश्रम से टीकाकरण के इस महत्वपूर्ण लक्ष्य को पूरा किया है। रायगढ़ जिले को 10 लाख 68 हजार 456 लोगों को टीके लगाए जाने का लक्ष्य मिला था, जिसे पूरा करते हुए इतने लोगों को टीके के दोनों डोज लगाई जा चुकी है। जिले में अब तक पहला व दूसरा डोज मिलाकर जिले में कुल 21 लाख 47 हजार 169 टीके लगाए गए है। रायगढ़ में कोविड टीकाकरण का कार्य शत-प्रतिशत पूर्ण कर लिया गया है। इससे रायगढ़ देश के उन चुनिंदा टॉप जिलों में शामिल हो गया है जहां कोविड टीकाकरण का कार्य सबसे पहले पूरा किया गया है। रायगढ़ में 16 जनवरी 2021 से शुरू हुई टीकाकरण की यह मुहिम आज 9 नवम्बर को अपने मुकाम पर पहुंच गई है। पिछले 298 दिनों में कलेक्टर श्री भीम सिंह के नेतृत्व व जिला पंचायत सीईओ डॉ.रवि मित्तल के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग के साथ पूरे जिला प्रशासन की टीम ने अथक मेहनत व परिश्रम से टीकाकरण के इस महत्वपूर्ण लक्ष्य को पूरा किया है। रायगढ़ जिले को 10 लाख 68 हजार 456 लोगों को टीके लगाए जाने का लक्ष्य मिला था, जिसे पूरा करते हुए इतने लोगों को टीके के दोनों डोज लगाई जा चुकी है। जिले में अब तक पहला व दूसरा डोज मिलाकर जिले में कुल 21 लाख 47 हजार 169 टीके लगाए गए है। रायगढ़ के लिए 26 जून का दिन ऐतिहासिक रहा। कलेक्टर श्री भीम सिंह के नेतृत्व में पूरे जिले में महा टीकाकरण अभियान चलाया गया। इस दिन पूरे प्रदेश में अब तक एक दिन में सबसे अधिक 1 लाख 43 हजार से अधिक लोगों को टीके लगाने का रिकॉर्ड बनाया गया। रायगढ़ जिले के साथ जिले का तमनार विकासखंड प्रदेश में टीकाकरण में अव्वल रहा है।


ग्रामीण उत्पादों की बिक्री के लिए शहरों में खुलेंगे सी-मार्ट

छत्‍तीसगढ़ में गांवों में हुए उत्पादों की मार्केटिंग के लिए शहरों में सी-मार्ट के आधुनिक शोरूम खुलेंगे। वहां स्व-सहायता समूहों, बुनकरों, कुंभकारों और कुटीर उद्योगों के उत्पादों की बिक्री होगी। ग्रामीण अर्थव्यवस्था के तेजी से विकास के लिए गांवों में तैयार उत्पादों को शहरों के मार्केट से जोड़ने की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नई पहल की है। इसके लिए मुख्यमंत्री ने सी-मार्ट स्थापित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। इसके लिए प्रथम चरण में सभी जिला मुख्यालयों में नगर निगमों की स्थिति में आठ से 10 हजार वर्गफीट और नगर पालिकाओं की स्थिति में छह से आठ हजार वर्गफीट में आधुनिक शोरूम की तरह सी-मार्ट की स्थापना की जाएगी।


नवा रायपुर जंगल सफारी की तर्ज पर रामचुआ-हरमो में बनेगा एक और जंगल सफारी

प्रदेश में नवा रायपुर स्थित जंगल सफारी की तर्ज पर कवर्धा जिले के रामचुआ-हरमो में एक और जंगल सफारी का निर्माण किया जाएगा। यह जंगल सफारी प्राकृतिक वन संपदा को बिना नुकसान पहुंचाए 191 हेक्टेयर क्षेत्र में निर्मित किया जाएगा। जंगल सफारी में वन्य प्राणियों और आने वाले पर्यटकों के लिए नवीन एवं आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर ने आज अपने शासकीय निवास कार्यालय में कबीरधाम (कवर्धा) जिले के रामचुआ-हरमो क्षेत्र में प्रस्तावित जंगल सफारी परियोजना के संबंध में विभागीय अधिकारियों की बैठक लेकर विस्तारपूर्वक जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि प्राकृतिक वन सम्पदा को नुकसान पहुंचाए बिना जंगल सफारी का निर्माण किया जाए। प्राकृतिक रूप से मौजूद जंगलों को कोई नुकसान न हो, इस पर भी विशेष सावधानी रखा जाए। प्रस्तावित नवीन जंगल सफारी को भोरमदेव मंदिर सहित अन्य पर्यटन स्थलों तथा ऐतिहासिक धरोहरों के साथ जोड़कर एक सर्किट बनाया जाएगा। इस जंगल सफारी में शेर, चीता, सफेद शेर, भालू, हिरण, सांभर, नीलगाय सहित अन्य पशु-पक्षी के लिए अलग-अलग सफारी का निर्माण किया जाएगा। निर्माण कार्य पर लगभग 75 करोड़ रूपए की लागत आएगी। जंगल सफारी निर्माण के लिए 3 साल का लक्ष्य रखा गया है। यह जंगल सफारी पहाड़ के ठीक नीचे स्थित है। यह प्राकृतिक सौंदर्य और भव्यता के साथ-साथ पर्यटकों के लिए काफी मनोरम स्थल होगा। जंगल सफारी निर्माण से किसी को भी कोई परेशानी नहीं होगी। अधिकारियों ने बताया कि सफारी के अंदर कैचमेंट क्षेत्र में चेकडेम का निर्माण किया जाएगा। इसके साथ-साथ प्राकृतिक रूप से बह रहे नाले को भी व्यवस्थित किया जाएगा। जंगल सफारी के मुख्य दरवाजे के समक्ष प्रशासनिक जोन भी तैयार किया जाएगा। जहां टिकट काउंटर के साथ-साथ फूड जोन, प्रसाधन, पार्किंग आदि की व्यवस्था रहेगी। जंगल सफारी क्षेत्र में पहाड़ से कुछ दूर तक पर्यटकों के आने-जाने के लिए सड़क निर्माण किया जाएगा। जिससे पर्यटक आसानी से पूरे जंगल को घूमकर सफारी का लुफ्त उठा सकेंगे।


IPS अशोक जुनेजा बने छत्तीसगढ़ के नए पुलिस महानिदेशक

छत्तीसगढ़ सरकार ने गुरुवार को बड़ा फैसला लेते हुए प्रदेश में पुलिस महानिदेशक के पद पर नई नियुक्ति की है। डीएम अवस्थी की जगह अब अशोक जुनेजा नए डीजीपी होंगे। जुनेजा अब तक डीजी नक्सल आपरेशन की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। डीएम अवस्थी को अब राज्य पुलिस अकादमी का प्रमुख बनाया गया है। प्रदेश के नए पुलिस प्रमुख अशोक जुनेजा 1989 बैच के आईपीएस ऑफिसर हैं। वर्तमान में वे स्पेशल डीजी नक्सल की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।


राष्ट्रीय