Chhattisgarh: विद्युत विभाग के कर्मचारियों को नहीं मिल रहा पुरानी पेंशन योजना का लाभ, मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर बताई अपनी समस्याएं

Chhattisgarh: विद्युत विभाग के कर्मचारियों को नहीं मिल रहा पुरानी पेंशन योजना का लाभ, मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर बताई अपनी समस्याएं

रायपुर। Chhattisgarh: वर्ष 2004 और उसके बाद नियुक्त अधिकारियों- कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन योजना की मांग को लेकर विद्युत अभियंता कल्याण संघ के द्वारा मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर अपनी मांग सरकार के समक्ष रखी है। इसके साथ ही कर्मचारियों की सेवा संबंधी समस्याओं से भी मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया।

संघ के अध्यक्ष इंजीनियर एनआरसी इस विषय में जानकारी देते हुए बताया कि राज्य के समस्त कर्मचारियों को मुख्यमंत्री महोदय की घोषणा के अनुसार अप्रैल 2022 से पुरानी पेंशन योजना लागू करते हुए नई पेंशन योजना की कटौती बंद कर माह अप्रैल 2022 से सामान्य भविष्य निधि की कटौती की जानी है।

दूसरे विभागीय कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ मिलेगा, लेकिन ऊर्जा विभाग के अंतर्गत आने वाली विद्युत कंपनियों में घोषणा के ग्राह का कोई आदेश पारित नहीं किया गया है।

इस वजह से कर्मचारियों में संशय की स्थिति बनी हुई है जबकि वित्त विभाग के आदेश में स्पष्ट है कि केवल केंद्र शासन और अखिल भारतीय सेवा के अंतर्गत आने वाले कर्मचारियों को ही पुरानी पेंशन योजना का लाभ प्राप्त नहीं होगा।  विद्युत विभाग में एनपीएस चालू रखते हुए अप्रैल माह से जीपीएफ की कटौती चालू न करना कंपनी प्रबंधन की हठधर्मिता को दर्शाता है।

पूर्व में मुख्यमंत्री द्वारा घोषित कर्मी को की सेवानिवृत्ति की आयु 58 से 60 वर्ष और साल 2008 में 7 से 62 वर्ष 2013 में राज्य शासन के साथ विद्युत कंपनियों द्वारा ग्राह कर लागू किया गया था। वर्तमान में भी मुख्यमंत्री द्वारा घोषित सप्ताह में 5 कार्य दिवस की घोषणा को राज्य शासन ने लागू किया गया था। वर्तमान कंपनी प्रबंधन द्वारा कर्मचारी हितों के विरुद्ध लगातार हठधर्मिता पूर्ण निर्णय लिए जा रहे हैं। कोरोना काउंट में सामूहिक बीमा योजना भी बंद कर दी गई।

संघ के पदाधिकारियों ने इस ज्ञापन के माध्यम से विद्युत विभाग की विभिन्न कंपनियों में सेवा दे रहे विभिन्न कर्मचारियों की समस्याओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराते हुए उनसे इनके निराकरण की मांग की है।

छत्तीसगढ़ रायपुर