Chhattisgarh: अब पूरे राज्य में लागू होगी मिशन परिवार विकास योजना, जानिए इसकी खास बातें

Chhattisgarh: अब पूरे राज्य में लागू होगी मिशन परिवार विकास योजना, जानिए इसकी खास बातें

रायपुरमिशन परिवार विकास (एम पी वी) से राज्य के दो जिलों में  परिवार कल्याण सेवाओं की गुणवत्ता एवं उपलब्धता में हुए सुधार को देखते हुए अब यह योजना पूरे छत्तीसगढ़ में चलाई जाएगी।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा परिवार कल्याण कार्यक्रम अंतर्गत 2016 में मिशन परिवार विकास योजना की शुरुआत की थी  ताकि 7 राज्यों के 146 जिले जहां सकल प्रजनन 3 प्रतिशत से अधिक है, में गर्भनिरोधक साधनों की उपलब्धता एवं उपयोग में वृद्धि हो सके। छत्तीसगढ़ में यह योजना कवर्धा और सुरगुजा जिलों में संचालित की गई थी।

इस संदर्भ में भारत सरकार के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अपर सचिव एवं मिशन निदेशक विकासशील ने एक पत्र जारी कर  उक्त 7 उच्च प्राथमिकता वाले राज्यों में मिशन परिवार विकास योजना का क्रियान्वयन समस्त जिलों में विस्तारित किए जाने को कहा है।

कुल प्रजनन दर में कमी लाने के लिए राज्य को तीन श्रेणी में बांटा गया है। प्रथम श्रेणी में राज्य में 4 या 4 से अधिक सकल प्रजनन दर वाले जिलों में कुल प्रजनन दर में 0.3 अंक प्रतिवर्ष की कमी लाना है। द्वितीय श्रेणी में राज्य के 3.5 से 4.0 तक सकल प्रजनन दर वाले जिले में कुल प्रजनन दर में 0.2 अंक प्रतिवर्ष की कमी लाना है। श्रेणी 3 के अंतर्गत राज्य के 3.0 से 3.5 तक सकल प्रजनन दर वाले जिलों में कुल प्रजनन दर में 0.1% की कमी लाना है। इन समेकित प्रयासों से जिलों की सकल प्रजनन दर में कमी लाते हुए वर्ष 2025 तक राज्य की सकल प्रजनन दर को अपने प्रतिस्थापन स्तर 2.1 को प्राप्त करने के लक्ष्य को पूरा किया जा सकता है।

डॉ.आर एस सत्यार्थी, उप संचालक, परिवार कल्याण, ने बताया ‘मिशन परिवार विकास’ के बेहतर क्रियान्वयन के लिए गर्भ निरोधक इंजेक्शन और अन्य साधन उप स्वास्थ्य केंद्र स्तर तक उपलब्ध करवाए जाएगें।  विशेष रूप से उच्च प्रजनन तक वाले जिलों में इनहैंसड कंपनसेशन स्कीम के अंतर्गत नसबंदी सेवाओं को प्रोत्साहन दिया जाएगा। इस स्कीम के अंतर्गत मितानिन और लाभार्थियों को ज्यादा वित्तीय प्रोत्साहन दिया जाएगा।

इन बातों पर रहेगा जोर

प्रमुख स्थानों पर कंडोम बॉक्स की उपलब्धता को सुनिश्चित किया जाएगा। कंडोम एवं गर्भनिरोधक गोलियों का सामाजिक विपणन मितानिन के माध्यम से किया जाएगा। साथ ही ‘’मिशन परिवार विकास अभियान’’ वर्ष में चार बार जागरूकता गतिविधियों को करेगा। प्रोत्साहन परख योजनाओं में विशेष रुप से सास बहू सम्मेलन साथ ही नव दंपतियों को परिवार नियोजन किट भी प्रदान की जाएगी और मितानिन के माध्यम से उसके सही उपयोग के बारे में भी बताया जाएगा।

जागरूक करने के लिए नियमित रूप से रेडियो पर संदेश और समुदाय आधारित गतिविधियां भी की जाएगी। परिवार नियोजन के लिए जागरूक दंपतियों के लिए सेवा अनुकूल वातावरण का निर्माण किया जाएगा।

डॉ.सत्यार्थी ने कहा ‘’मितानिन एवं लाभार्थियों के लिए प्रोत्साहन योजना को लागू किया गया है। शहरी क्षेत्र में प्रोत्साहन राशि मितानिन लिंक वर्कर या उसके समकक्ष कार्य करने वाले कार्यकर्ताओं को दी जाएगी।

‘’उच्च प्रजनन दर वाले जिलों में डॉक्टर, स्टाफ नर्स व एएनएम को चिन्हित कर प्रशिक्षण दिया जाएगा। सेवा केंद्रों पर कार्यरत सभी स्तर के कार्यकर्ताओं को नवीन गर्भनिरोधक साधनों पर ऑन-साइड अभिमुखीकरण किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ रायपुर