आर्थिक रूप से कमजोर देशों में शामिल क्यूबा ने खुद के दम पर विकसित की COVID पर 92% प्रभावी वैक्सीन

आर्थिक रूप से कमजोर देशों में शामिल क्यूबा ने खुद के दम पर विकसित की COVID पर 92% प्रभावी वैक्सीन

Abdala vaccine: Cuba: covid-19: दुनिया के निर्धन देशों में शामिल क्यूबा ने खुद के दम पर कोविड-19 रोधी वैक्सीन विकसित की है। तीन शॉट वाली अब्दला वैक्सीन अंतिम चरण के क्लिनिकल ट्रायल में 92.28% प्रभावी साबित हुई है। आत्मनिर्भरता के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ रहा फिदेल कास्त्रो का देश कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ खुद के बूते पर जंग लड़ रहा है।

क्यूबा के वैज्ञानिक लगातार वैक्सीन विकसित करने के लिए काम कर रहे थे और सरकार ने कुछ समय पहले ही देश में बनी सोबराना 2 वैक्सीन की घोषणा की थी। ये 62% प्रभावी वैक्सीन है। अब अब इसकी तुलना में ज्यादा सक्षम और प्रभावी अब्दला वैक्सीन क्यूबा ने विकसित कर ली है। 

क्यूबा के राष्ट्रपति मिगुएल डियाज कैनेल ने ट्वीट करते हुए कहा- महामारी की चपेट में आने पर फिनले इंस्टीट्यूट और सेंटर फॉर जेनेटिक इंजीनियरिंग एंड बायोटेक्नोलॉजी के हमारे वैज्ञानिकों ने दो बहुत प्रभावी वैक्सीन दी है। यह घोषणा बायोफार्मास्युटिकल कॉरपोरेशन बायोक्यूबाफार्मा ने की। ये सोबराना 2 को बनाने वाली फिनले और अब्दला वैक्सीन को बनाने वाली सेंटर फॉर जेनेटिक इंजीनियरिंग एंड बायोटेक्नोलॉजी की मॉनिटरिंग करती है।

आर्थिक संकट और विकास की चुनौतियों से जूझ रहे क्यूबा जैसे छोटे से देश के लिए अपने दम पर महामारी के नियंत्रण के लिए विकसित की गई प्रभावशाली वैक्सीन अपने आप में बड़ी उपलब्धि है। महामारी के दौर में क्यूबा की सरकार ने तय किया था कि वह विदेशी सहायता पर निर्भर न रहकर खुद के दम पर संसाधन, वैक्सीन और दवाइयों विकसित करेगी और वहां के वैज्ञानिकों ने अपनी मजबूत इच्छाशक्ति के साथ यह कर दिखाया है।

अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य